Your donation will be tax free under 80G

Donate to Fight COVID 19

Volunteers Details

Mohit Sharma

Founder Cum President


मोहित शर्मा

संस्थापक

(मानस इंडिया फाउंडेशन)

 

“मानस संकल्प जनहित विकल्प”

सेवा ईश्वरका वह वरदान है जो कि हर मनुष्य को विरासत के रूप में नहीं मिलताIपरमात्मा अपने प्रिय संतान की भावना, नैतिकता एवं मानवता को जाँच परख कर उस पर अपनी अनुकम्पा बरसाता हैI

इसी ध्येय को अपने जीवन का सार बनाकर चलने वाले हमारे माननीय मोहित शर्मा जी ने जन कल्याण की निष्ठा संजोये हुए मानस इंडिया फाउंडेशन की स्थापना की I

शुद्ध विचारों के धनी श्री मोहित जी निःस्वार्थभाव से पर-सेवा में निरंतर रमे रहते हें तथा दीन-दुखियों के उत्थान के लिए धन, वस्तु, समय एवं शिक्षा के द्वारा सहायता करते रहते हें I

श्री मोहित जी का जन्म 31 मार्च 1988 को दिल्ली के एक माध्यमवर्गीय ब्राहमण परिवार में हुआ. सुखी संपन्न न होते हुए भी उन्होंने सेवा,अध्यात्म एवं मानवता के मार्ग को चुनकर मानस इंडिया फाउंडेशन की स्थापना कीI

संस्थान के गठन से पूर्व उन्होंने दिल्ली के संस्कृत विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री प्राप्त की तथा राजस्थान से बी. एड. की शिक्षा हासिल की.शिक्षा प्राप्ति के साथ-साथ उन्होंने ज्योतिषाचार्य में महारत भी हासिल कीI

संस्कृत एवं संस्कृति से उनके लगावके कारण, उनका मानवता से जुड़ाव स्वाभाविक था Iअत्यंत संवेदनशील व्यक्तित्व के धनी,श्री मोहित जी ने जब ये देखा कि जिन बच्चो को शिक्षा प्राप्ति में व्यस्त रहना चाहिए वो फटेहाल दशा में सड़कों पर भीख मांगकर दयनीय जीवन जीने को मजबूर हैं I

विडम्बना ये है कि लोग मंदिरों में सोना, चांदी, वस्त्र आदि भेंटतो चढा देते हैं परन्तु असहाय, दुखी,बीमार एवं लाचार व्यक्तियों की सहायता कोई नहीं करताI इन दृश्यों ने मोहित जी पर गहरा प्रभाव छोड़ा, फलस्वरूप श्री मोहित जी ने हाथ पे हाथ रखकर तमाशा देखने के वजाए हाथ बढ़ाने का निश्चय किया एवं अनुकूल निदान निकालने का संकल्प लियाI

हालांकि ये सब बृहत् स्तर पर अकेले संभव नहीं थाअतः श्री शर्मा जी ने अपने विचारानुकुल व्यक्तियों का समूह गठित किया I प्रयास चलता रहा, विश्वास जगता रहा, लोग जुड़ते गए और वह दिन आया जब मानस इंडिया फाउंडेशन की स्थापना 17 मई 2017 को हुई I

Mohit Sharma कुछ भी लिखना हो
Founder-cum-President
Maanas India Foundation

“Maanas Sankalp-Ek Janhit Vikalp”

“Service is the boon of God that doesn’t inherited to every human being. The almighty evaluates the feelings, morals, and quantity of humanity in his beloved one and exercises his sympathy on him”.

Embracing this beautiful thought in his personal and social life, Shri Mohit Sharma has laid the foundation of “Maanas India” to justify his loyalty of public welfare. 

Shri Mohit, a person of pure thoughts, is selflessly engaged in the service of mankind, and continues to assist entirely for the upliftment of the oppressed through every possible means.

Sh. Sharma Ji born in a middle-class Brahmin family of Delhi. Not being capable enough, he selected the path of service, spirituality and humanity and in the same reference he founded Maanas India Foundation through gathering the folks of similar insights.

Prior to the formation of organization, he obtained his bachelors degree from the Sanskrit University, Delhi and achieved B. Ed(Bachelor in Education) from Rajasthan as well as accomplished Master’s in Astrology.

Due to his inclination towards Sanskrit and Culture, his association with humanity was natural. A man of kindness, Shri Mohit ji, when saw that the children who should be engaged in attainment of education and dreaming of prosperity,are compelled to live a miserable life and begging in the streets.

Ironically, people oblates gold, silver,cash, edibles and other commodities atreligious places but they do not offer the same to helpless, unhappy, sick and needy people. These poor visuals shaken him deeply. Instead of keeping his eyes close, he decided to raise hands in favour of them.

Although, it was not possible for him to overthrow such scenario at majesticlevel, but Shri Sharma had not surrendered to difficulties. The efforts continued and his beliefs started succeeding. He calmly strategized the doorway to welfare of humankind.

people joined and the day came when Maanas India Foundation was established on May 17, 2017.